LATEST NEWSउत्तर प्रदेश

नहरो मे से सिल्ट निकाल कर बेच रहे है खनन माफिया, प्रशासन बेखबर

*नेबुआ नौरंगिया कुशीनगर*-नेबुआ नौरंगिया बालू के तस्करों के लिए नहरों से सिल्ट को निकाल कर बालू के नाम पर बेचना कोई नई बात नही है।लेकिन अब इन खनन माफिया का मनोबल इतना बढ़ गया है कि नहर के किनारे को ही खोदने लगे है।एक बार फिर बालू काअवधै खनन बन्द होते ही खनन माफियाओं ने नहरों के किनारे पेड़ सिल्ट और नहरों मे से सिल्ट निकाल कर बालू के नाम पर बेचना शुरू कर दिया है और स्थानीय प्रशासन बेखबर है ।
क्षेत्र से होकर गुजरने वाली गण्डक के किनारे से सिल्ट और खजूरियाँ शाखा की सिल्ट सफाई के दौरान नहर से निकले गए सिल्ट को नहर की पटरी पर रखा गया है जिसको खनन माफियों ट्रकों और ट्रालियाें मे भरकर मनाने दामों पर बेच रहे है ।खजूरिया शाखा नहर मे इस समय पानी नही है ।जिसका फायदा उठाते हुए खनन माफियों नहर के किनारे (बेड)बेड को ही खोदने मे लगे है।पटरी को खोदने से जहाँ एक तरफ राजस्व की हानि हो रही है तो दुसरी ओर नहर के किनारे कमजोर हो रहे है ।जो किसी न किसी दिन टुटकर किसानों के बीच भयंकर तबाही मचाएेंगे।पिछले साल किल्लत बालू माफियाओं के ।रात के अंधेरे मे ट्रकों से भरकर सिल्ट बाहर भेजकर मोटी की कमाई कि थी ।जिसमे अन्त समय मे कुछ कार्रवाई भी नेबुआ नौरंगिया पुलिस के द्वारा कि गयी थी।जिसमे जेसीबी ट्रकों को नहर के किनारे से पकड़ कर थाने ले आई थी।इन सब मे पुलिस के साथ कुछ सफेद पोशों का संरक्षण था। एक बार बालू खनन बन्द होने के साथ ही इनका कारोबार शुरू हो गया है ।इस बार रात के अंधेरे के बाजय दिन के उजाले मे ही ट्रालियों पर सिल्ट लोडकर के बालू के नाम पर मुह मागी किमत के बेचा जा रहा है ।खनन माफिया स्थानीय कुछ मनबढ़ युवाओं द्वारा किसी भी तरह की स्थानीय बिरोध के दबाव दिया जाता है।कुछ राजनिति लोग और सुरक्षा व्यवस्था जिम्मेदार लोगों का संरक्षण कहे या बेपरवाही इन खनन माफियाओं का मनोबल आसमान पर है । इस संबध मे उपजिलाधिकारी पडरौना कल्पना जायसवाल ने कहा अवैध खनन की सूचना मिली है ।दिखवाया जा रहा है , खनन माफियों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई कि जायेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button