उत्तर प्रदेश

बुनियादी सुविधाओं के अभाव से त्रस्त है समउर बाजार अस्पताल है डॉक्टर नही, पानी टँकी है सप्लाई नही

 सेवरही-कुशीनगर। स्थानीय कस्बा उत्तर प्रदेश-बिहार बॉर्डर पर स्थित है करीब दो दर्जन गाव के लोगो का मुख्य बाजार यह कस्बा है, यहां बुनियादी सुविधाओं का अभाव आम जन को परेशान रखता है। सरकारी अस्पताल,एक बैंक व शुद्ध जल के लिए पानी टँकी स्थापित है, लेकिन सब बदहाली व्या करती है कस्बे के जागरूक लोग व्यवस्था दुरुस्त के लिए हमेशा प्रयत्न करते है, लेकिन व्यवस्था जस की तस है।
कस्बे के निवासी व सामाजिक कार्यकर्ता बबलू पाण्डेय के अनुसार पानी की टँकी बने एक दशक से ऊपर हो गया, लेकिन जल निगम के लापरवाही से आज तक पानी सप्लाई शुरू नही हो पाया। जिसके वजह से शुद्ध जल लोगो के लिए सपना बन गया है,
कस्बे के निवासी मुकेश कुशवाहा का कहना है की, कस्बे में स्थित सरकारी अस्पताल बदहाली का शिकार है, डॉक्टर तैनात न होने के चलते लोग काफी परेशान रहते है। एक वर्ष से डॉक्टर विहीन अस्पताल केवल शोपीस बना हुआ है, इस अस्पताल पर दर्जन भर गाव के लोगो के इलाज का जिम्मा है लेकिन अधिकारियों के लापरवाही से समस्या बिकराल बना हुआ है।
विहार खुर्द के सामाजिक कार्यकर्ता अशोक भारती ने कस्बे में राष्ट्रीयकृत बैंक अब तक न खुलने पर रोष प्रगट करते हुए बताया की राष्ट्रीयकृत बैंक शाखा न होने के चलते लोगो को दस से पन्द्रह कि.मी दूर जाकर लोगो को बैंकिग कार्य करना पड़ता। जबकि कस्बा सभी मानक शाखा खोलने के लिए पूर्ण करता है।
कस्बे के निवासी बबलू मद्देशिया का कहना है की कस्बे में पुलिस चौकी है इसे रिपोर्टिंग चौकी बनाना समय की मांग है। इस इलाके के लोगो को इससे सहूलियत मिल जाती रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए आम लोगो को दस कि.मी की दूरी तय करने से निजात मिल जाती, साथ ही इस चौकी को पुलिस वैन की सुविधा वेहद जरूरी है।
समाजिक कार्यकर्ता अरुण कुमार सिंह का कहना है की अस्पताल में डॉक्टर, राष्ट्रीयकृत बैंक शाखा की सख्त जरूरत है। इसके लिए सम्बंधित अधिकारियों को पत्र भी भेजा गया है जनहित में डॉक्टर की तैनाती व बैंक शाखा खोलना आवश्यक है, इस मसले को जिम्मेदार अधिकारी सज्ञान ले और जनहित में समस्या ठीक करे तो आमजन को सहूलियत मिल सकेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button