उत्तर प्रदेश

रिफ्लेक्सोलॉजी सप्ताह के अंतर्गत अल्जाइमर रोग के प्रति किया जागरूक – डाॅ नवीन सिंह

बस्ती 21 सितम्बर I वर्ल्ड रिफ्लेक्सोलॉजी परिषद के तत्वावधान में नि:शुल्क रिफ्लेक्सोलॉजी सप्ताह का तीसरा दिन मनाया गया । यह अभियान लगातार एक सप्ताह चलेगा अंतरराष्ट्रीय रिफ्लेक्सोलॉजी के कार्यकारिणी सदस्य प्रोफेसर डॉ नवीन सिंह ने बताया कि 21 सितंबर वर्ल्ड अल्जाइमर डे के रूप में मनाया जाता है अल्जाइमर रोग दुनिया में तेजी से बढ़ते न्यूरोलॉजिकल विकारों में एक है इसे डेमेंशिया का सामान्य प्रकार भी माना जाता है आंकड़ों के मुताबिक अकेले अमेरिका में हर साल इस रोग से 5 मिलियन मामले सामने आते हैं विशेषज्ञों को आशंका है कि साल 2060 तक इसके सालाना मामलों में लगभग 3 गुना तक वृद्धि हो सकती है इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए अल्जाइमर रोग के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए 21 सितंबर को वर्ल्ड अल्जाइमर डे मनाया जाता है ।डॉ नवीन सिंह ने बताया कि रिफ्लेक्सोलॉजी एक्यूप्रेशर में अल्जाइमर रोग का बहुत आसान और सरल उपाय है अपने हाथों के दोनों अंगूठे के पोर पर नियमित रूप से दबाव देकर अल्जाइमर रोग पर काबू पाया जा सकता है क्योंकि अंगूठा एक्यूप्रेशर पद्धति के अनुसार ब्रेन सिस्टम है क्योंकि मेमोरी लॉस को ही अल्जाइमर कहते हैं अतः नियमित रूप से सारे अंगुलियों के पोर पर दबाव देंगे तो अल्जाइमर जैसे भयावह रोग से मुक्ति मिलेगी। डॉ नवीन सिंह ने बताया कि अल्जाइमर एक न्यूरोजेनिक रोग है जिसमें मस्तिष्क की कोशिकाएं मृत होने लगती हैं कई मामलों में मस्तिष्क में सिकुड़न की समस्या हो सकती है इस जटिलता के कारण लोगों में याददाश्त संबंधित समस्याओं के साथ संज्ञानात्मक क्षमता में कमी आ सकती है ।अल्जाइमर रोग के के कारण लोगों का दैनिक जीवन प्रभावित हो सकता है ।वर्ल्ड रिफ्लेक्सोलॉजी सप्ताह के निशुल्क शिविर में आए हुए रोगियों के हथेली में इस रोग से संबंधित मर्म बिंदु पर दबाव देकर उन्हें रोग मुक्त होने के लिए जागरूक किया गया ।इस अभियान में योग चिकित्सक राम मोहन पाल एवं सन्नो दुबे सहित कई थैरेपिस्ट जनमानस की सेवा कर रहे हैं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button