उत्तराखण्ड

लार में हटेगा अतिक्रमण चलेगा बुल्डोजर

कमिश्नर कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं के अपील को किया खारिज नगर पंचायत के पक्ष में दिया फैसला।
लार देवरिया।नगर पंचायत लार की नासूर बनी जाम की समस्या से अब लोगो को कमिश्नर कोर्ट से फैसला आने के बाद जाम से मुक्ति मिलने के आस दिखने लगे है।लार के जाम में फसे वाहनों के कारण कइयों की जान भी जा चुकी है।नगर पंचायत लार अध्यक्ष का चुनाव जितने के बाद चेयरमैन सरोज यादव ने बोर्ड के पहले बैठक में लार बाजार के अतिक्रमण को हटाने के लिए प्रस्ताव रखा था।जिसपर बोर्ड के सभासदों ने नगर के विकास के लिए अपनी सहमति दी थी।अतिक्रमण हटाने के विरोध में दर्जनों याचिकर्ताओ ने डीएम कोर्ट में याचिका दायर किए थे।जिसमे दोनों पक्षो के सुनवाई के बाद देवरिया के तत्कालीन डीएम  ने अठारह याचिकर्ताओ के अपील को खारिज करते हुए नगर पंचायत के पक्ष में फैसला दिया था।जिसको लेकर याचिकर्ताओ ने डीएम के फैसले के खिलाफ हाइकोर्ट में अपील दायर की थी।इस मामले में हाईकोर्ट ने कमिश्नर को निर्देशित करते हुए चार महीने में फैसला देने का निर्देश दिया था।कमिश्नर कोर्ट ने अतः निगरानी समिति को निरस्त करते हुए।नगर पंचायत के पक्ष में फैसला दिया है।जिसे लेकर अतिक्रमणकारियों में खलबली मची हुई है।नगर पंचायत अध्यक्ष सरोज यादव ने कहा कि चार साल से लार के जाम के झाम से निजात दिलाने का प्रयास कर रही थीं।आज नगर पंचायत के पक्ष में कमिश्नर कोर्ट से फैसला आया है।जल्द ही अतिक्रमण हटवाया जाएगा।अध्यक्ष प्रतिनिधी जगदीश यादव ने बताया कि लार के विकाश के लिए रोड का चौड़ीकरण होना अतिआवश्यक है।लार के जाम ने कइयों की जान ले ली है।रोड के जमीन पर अतिक्रमण किये हुए लोगो के साथ मिलकर कुछ लोग इसमे राजनीति कर रहे थे।लार के चौमुखी विकास के लिए हम लोग शुरू से ही प्रयासरत है।जल्द ही लार नगर पंचायत का मुख्य मार्केट अतिक्रमण मुक्त होगा।लार नगर पंचायत के घारी वार्ड निवासी देवेंद्र सिंह राजू ने कहा था कि चेयरमैन सरोज यादव ने लार को अतिक्रमण मुक्त करा दिया तो लार के इतिहास में चेयरमैन सरोज यादव का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा।लार का अतिक्रमण मुक्त होना जनहित में अतिआवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button