उत्तर प्रदेश

शहीद स्थली भैया शिव गुलाम पैड़ा के सरकारी अस्पताल मे दो दिनो से लटक रहा है ताला- डाक्टर सहित पूरा स्टाफ घर बैठकर ले रहा है वेतन

ख्वाजा एक्सप्रेस संवाद 

बस्ती 11 अगस्त। 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से जुटी , भैया शिव गुलाम सिंह की यादगार में स्थापित शहीद स्थल पैड़ा को समय-समय पर जिला प्रशासन विकसित तो कर रहा है, लेकिन यहां स्थापित सरकारी अस्पताल का ताला दो  दो  दिन तक नहीं खुलता? यहां होम्योपैथ, आयुर्वेद व अन्य डाक्टरों व स्टाफ लेकर एक दर्जन लोगों की तैनाती है लेकिन सब के सब गायब रहते हैं।गेट पर ताला लटका देख कर क्षेत्र के मरीज लौट जाते है।पूर्व जिला पंचायत सदस्य खलील अहमद को 2 दिनों से होम्योपैथ डॉक्टर की तलाश है। वह 10 और 11 अगस्त दोनों ही दिन पैड़ा सरकारी अस्पताल पर पहुंचे लेकिन गेट पर ताला लटका पाया। पूर्व सदस्य जिला पंचायत खलील अहमद ने आज 11 बजे दिन में कुछ तस्वीरें ‘ख्वाजा एक्सप्रेस’ को वास्तविकता की जानकारी के लिए भेजी है। उसमें दिख रहा है कि पैड़ा की सरकारी डिस्पेंसरी भवन के बाहर गेट पर ताला लटक रहा है। जिला पंचायत के पूर्व सदस्य ने आधा घंटे तक पूछ ताछ किया।कुछ देर बाद वहां एक आदमी आया जिसने अपना नाम बताया और अपने को वहां चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी बताया। कर्मचारी ने कहा कि बारिश की वजह से डॉक्टर तथा स्टाफ अभी तक नहीं आ पाए हैं। जिला पंचायत के पूर्व सदस्य ने कहा कि 10 अगस्त को भी गेट पर ताला लटक रहा था,तो वह चुप हो गया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को संज्ञान लेना चाहिए कि शहीद स्थल पैड़ा कि सरकारी डिस्पेंसरी में ताला क्यों लटका रहता है? यहां तैनात निरंकुश स्टाफ को इस बात का भी डर नहीं है स्वतंत्रता दिवस सामने है ऐसे में जिले के उच्चाधिकारी यहां आ सकते हैं? कौन इसका जवाबदेह है कि स्टाफ समय से यहां बैठने लगेगा और मरीज अपनी बीमारी का इलाज करा पाएंगे?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button